सोनिया से मिले गहलोत, दिग्विजय पहुंचे शशि थरूर के घर और कहा: कोई भी जीते, यह जीत होगी कांग्रेस की
राजनीति

सोनिया से मिले गहलोत, दिग्विजय पहुंचे शशि थरूर के घर और कहा: कोई भी जीते, यह जीत होगी कांग्रेस की
राजनीति

दिल्ली : बीरबल की खिचड़ी बड़ी टेस्टी रही होगी मुझे पता नहीं मैंने टेस्ट नहीं किया पर कहानी देखी और खूब सुनी भी है. जिज्ञासा है मन की क्या किया जाए. खैर दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय के आसपास बड़ी हलचल देखने में आ रही है होनी भी चाहिए कॉंग्रेस पार्टी अपने संगठन के मुखिया के चुनाव की तैयारी कर रही. पार्टी को अध्यक्ष अभी मिला नहीं इसी बीच राजस्थान में सीएम पद के लिए मारामारी शुरू हो गई, क्योंकि अशोक गहलोत जो अभी तक सीएम हैं, राजस्थान के वो कॉंग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने वाले थे, अभी राहुल गांधी भारत जोड़ रहे, उनके पीछे-पीछे अशोक गहलोत यात्रा में जा मिले और राहुल से सलाह मांगी. राहुल ने एक टूक बोला ‘एक व्यक्ति-एक पद’ तब से राजस्थान में भूचाल मंच गया।


आज की बात की जाए तो लंबे अरसे बाद स्वास्थ्य लाभ लेकर भारत लौटी सोनिया गांधी से मिलने कॉंग्रेस के कई नेता पहुँच रहे हैं, हाँ, पता है वो सब कॉंग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के मूड में हैं इसलिए आलाकमान से सलाह ले रहे. इधर अध्यक्ष चुनाव को लेकर चल रही हलचल के बीच पार्टी के एक वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह भी कॉंग्रेस के G-23 के नेता सांसद शशि थरूर से मिलने पहुंच गए. आपको बात दें कि दिग्विजय सिंह ने भी 29 सितंबर को ही अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरा है और वह कल यानि शुक्रवार को नामांकन दाखिल करेंगे । अब तक सीएम अशोक गहलोत और शशि थरूर ही अध्यक्ष पद की दौड़ में भागीदार थे लेकिन अब ये मामला ट्राइऐंगल लव स्टोरी वाला हो गया है. क्योंकि एक ओर अशोक गहलोत सोनिया गांधी से मिलकर अपना सिक्का जमा रहे थे बीच में दिग्विजय सिंह ने शशि थरूर के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात कर ली. हुआ ना कहानी में ट्विस्ट ।

अब इस गुफ्तगू के बाद कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी है. शशि थरूर ने ट्वीट कर कहा कि आज दोपहर दिग्विजय सिंह मिलने आए. मैं पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए उनकी उम्मीदवारी का स्वागत करता हूं. हम दोनों इस बात पर सहमत थे कि हमारी लड़ाई प्रतिद्वंद्वियों के बीच नहीं बल्कि सहयोगियों के बीच एक दोस्ताना मुकाबला है. हम दोनों बस इतना चाहते हैं कि कोई भी जीते, जीत कांग्रेस की होगी. भला बताओ ऐसा कभी हुआ हो दोस्त और लड़ाई. चलो राजनीति में सबसे खास दोस्त तो कुर्सी होती है. ऐसा कहीं पढ़ा था।

शशि थरूर 30 सितंबर को करेंगे नामांकन

अब तक आप समझ गए होंगे की सांसद शशि थरूर भी कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहे हैं। वे शुक्रवार को अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगे, कांग्रेस ने जब अध्यक्ष चुनाव की घोषणा की थी तब सबसे पहले शशि थरूर ने लप से मौका देखर कहा की वो चुनाव लड़ने की इच्छा रखते हैं।

अशोक गहलोत ने चुनाव लड़ने से किया इनकार

जब राजस्थान कांग्रेस में अशोक के अध्यक्ष बनने का सपना उठा तब वहाँ कलह के बाद अशोक गहलोत के चुनाव लड़ने पर प्रश्न चिन्ह लग गया था। हालांकि उन्होंने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है. आज ही उन्होंने दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की और चुनाव लड़ने से मना कर दिया. बैठक के बाद उन्होंने कहा कि कि मैं कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव नहीं लडूंगा, सोनिया गांधी से माफी मांग ली है।

आपको सब पता ही है कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन करने की आखिरी तारीख 30 सितंबर है. मतदान 17 अक्टूबर को होगा और 19 अक्टूबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे. अब आप सोचो फिर से कांग्रेस के अध्यक्ष पद के दो ही दावेदार बच गए, एक शशि थरूर और दुसरे दिग्विजय सिंह. कल तक का समय है नामांकन के लिए हो सकता है कोई और नाम आगे आ जाए. लेकिन क्या लगता है आप सबको, किसे गले में बंधेंगी घंटी? मेरा मतलब वो नहीं जैसा आप समझ रहे. खैर 17 तारीख को सब साफ हो ही जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.