Breaking News

छत्तीसगढ़ प्रदेश के राजधानी स्थित सबसे बडे भीमराव अम्बेडकर (मेकहारा) हास्पिटल में पोस्ट मार्टम करने वाले मर्च्यूरी के कर्मचारियों के द्वारा पोस्ट मार्टम कराने आने वाले परिजनों से अवैध वसूली का गोरख धंधा आया सामने

छत्तीसगढ़ प्रदेश के राजधानी स्थित सबसे बडे भीमराव अम्बेडकर (मेकहारा) हास्पिटल में पोस्ट मार्टम करने वाले मर्च्यूरी के कर्मचारियों के द्वारा पोस्ट मार्टम कराने आने वाले परिजनों से अवैध वसूली का गोरख धंधा आया सामने

रायपुर : छत्तीसगढ़ प्रदेश के सबसे बड़े डा. भीमराव आंबेडकर अस्पताल में हर दिन 10 से 15 शवों का पोस्टपार्टम किया जाता है। यहां लंबे समय से पोस्टमार्टम के लिए आने वाले लोगों से मर्च्यूरी के कर्मचारियोें द्वारा अवैध वसूली की शिकायतें सामने आ रही थी।

इसकी शिकायत बार-बार प्रबंधन से की जाती रही। लेकिन इसे लेकर अधीक्षक डा. विनीत जैन और डीन डा. विष्णुदत्त ने गंभीरता नहीं दिखाई। इसके बाद शिकायतकर्ता द्वारा स्वास्थ्य मंत्री, डीएमई और संबंधित अधिकारियों को पत्र लिखकर शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की गई।

मामले की गंभीरता को देखते हुए लेकर प. जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कालेज के डीन डा. विष्णुदत्त ने जांच समिति गठित की है। इसमें फोरेंसिक विभाग के चिकित्सक से पत्र लिखकर जवाब मांगा गया था वहीं एक और मामले के लिए कर्मचारी और परिजन का ऑडियो वायरल हो गया जिसमें डाक्टर उत्कर्ष के नाम 5000 देने का नाम सामने आया है फॉरेंसिक मेडिसीन विभाग रायपुर दलालो का अड्डा बन गया है। जहा रेट लिस्ट तैयार है, काम के संबन्ध में ।बता दें कि पीएम के लिए आने वाले लोगों के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा कफन भी उपलब्ध नहीं कराया जाता है। ऐसे में उन्हें बाहर से खरीदकर लाना पड़ता है। इधर पैसे वसूली से भी यहां आने वाले पीड़ित तंग आ चुके हैं। एक तो उनके ऊपर दुख का पहाड टूटा रहता है और उसमें भी वसूली अब देखना यह है की प्रबंधन और स्वास्थ्य विभाग और मंत्री जी और सरकार इस मामले में आगे क्या कार्यवाही करते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *