Breaking News

बिलासपुर: तहसील अधिवक्ता संघ ने राजस्व अधिकारियों के खिलाफ खोला मोर्चा, कहा- तहसीलदार नारायण गबेल, नायब तहसीलदार शेष नारायण जायसवाल, तुलसी मंजरी साहू और राजकुमार साहू शाम 6 बजे के बाद दलालों के लिए करते हैं काम

राष्ट्रीय जगत विजन 26 फरवरी 2021

तहसील अधिवक्ता संघ ने राजस्व अधिकारियों के खिलाफ खोला मोर्चा, कहा- तहसीलदार नारायण गबेल, नायब तहसीलदार शेष नारायण जायसवाल, तुलसी मंजरी साहू और राजकुमार साहू शाम 6 बजे के बाद दलालों के लिए करते हैं काम आम जनता का काम करने के लिए इनके पास टाइम नहीं रहता सप्ताह में मुश्किल से दो या तीन दिन ओ भी एक या दो घंटे के लिए बैठते हैं।

बिलासपुर : तहसील कार्यालय के जिम्मेदार अधिकारी अपनी ओछी हरकतों या अमानवीय व्यवहारों के कारणों से विवादों में आ ही जाते हैं. आज हम जिन अधिकारियों के घटिया हरकतों को अपने लेख के माध्यम से पाठकों के समक्ष रखने वाले हैं उनसे हर वर्ग त्रस्त है और इनकी सैकड़ों शिकायतें कलेक्टर, कमिश्नर, प्रभारी मंत्री, राजस्व मंत्री और मुख्यमंत्री से हो चुकी है।. बावजूद इसके इन अधिकारियों पर कार्यवाही का न होना यह साबित करता है कि इनके ऊपर इन सभी नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों का हाथ है और इन्हीं लोगों के सह पर ये सभी गलत कार्य को कर रहे हैं। ये जो भी गलत कार्य इन अधिकारियों के द्वारा किया जा रहा है संबंधित जिम्मेदारों और सरकार की कमजोरी व भ्रष्टाचार को दर्शाता है

आज तहसील अधिवक्ता संघ ने कलेक्टर को तहसील कार्यालय की अव्यवस्थाओं से अवगत कराया और इसके लिए पूर्ण रूप से जिम्मेदार तहसीलदार नारायण गबेल, नायब तहसीलदार शेष नारायण जायसवाल, तुलसी मंजरी साहू और राजकुमार साहू को बताया ।

अधिवक्ता संघ ने कहा कि तहसीलदार नारायण गबेल, नायब तहसीलदार शेष नारायण जायसवाल, तुलसी मंजरी साहू और राजकुमार साहू के द्वारा वकीलों और पक्षकारों से लगातार अमानवीय व्यवहार किया जाता है ।और धमकी दी जाती है कि कर दो हमारी शिकायत जिसके पास करना है हमारा कोई भी कुछ नहीं कर पाएगा। इनके हौसले इतने बुलंद हैं की ये साफ कहते हैं ऊपर में फ्री का चढ़ावा नहीं जाता ।

संघ ने कहा कि पीठासीन अधिकारियों के द्वारा खुलेआम मंत्री और उच्चाधिकारियों के नाम से काम के एवज में रकम की डिमांड की जाती है । और इनकी मांग को पूरी नहीं करने की दशा में ये हमारे प्रकरणों को गायब करवा देते हैं इससे वकीलों को काफी परेशानीयों का सामना करना पड़ता है ।

वकीलों ने कहा कि कार्यालयीन दिवस में तहसीलदार नारायण गबेल, नायब तहसीलदार शेष नारायण जायसवाल, तुलसी मंजरी साहू और राजकुमार साहू बहुत ही कम बैठते हैं पर शाम को 6 बजे के बाद दलालों के कार्यों के लिए नियमित बैठते हैं, जो जगजाहिर है।

संघ ने कहा कि पीठासीन अधिकारियों के द्वारा शहर के होटलों में बैठकर भूमि का सौदा किया जाता है पर जनता का काम यह कहकर नहीं किया जाता कि शासन के काम से फुर्सत नहीं है .उन्होंने बताया कि तहसीलदार नारायण गबेल, नायब तहसीलदार शेष नारायण जायसवाल, तुलसी मंजरी साहू और राजकुमार साहू के बैठक स्थान पर दीवारों में पेंट , नया फर्नीचर, एसी, पंखा और दरवाजा फिटिंग की व्यवस्था दलालों के द्वारा की गयी है . जिसका जिक्र खुलेआम दलालों के द्वारा किया जाता है और इसकी आड़ में वे आम जनता से उनके जमीन संबंधी कार्यों को जल्द कराने का दावा भी करते हैं.

अधिवक्ताओं ने कलेक्टर से इन अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने की मांग की हैं।

अब देखना होगा कि कलेक्टर सारांश मित्तर, तहसील अधिवक्ता संघ के शिकायत लेटर को कितने गंभीरता से लेते हुए आगे की कार्यवाही करते हैं या अधिवक्ताओं को आगे कोई बडा या ठोस कदम धरना प्रदर्शन, घेराव,चक्का जाम जैसे कदम उठाने के लिए मजबूत होना पड़ेगा इसी तरह से आर आई पटवारी भी सीमांकन नामांतरण के लिए खुलेआम पैसों की मांग कर रहे हैं जिसकी भी शिकायत एक पिडित के द्वारा किया है ।

राष्ट्रीय जगत विजन

क्या पटवारी यादव के बाद कलेक्टर बिलासपुर आर आई संध्या नामदेव पर भी कार्यवाही करेंगे ?

कोनी आर आई सन्ध्या नामदेव सी सीमांकन करने का मांगती हैं पैसा*

किसान राजकुमार यादव कोनी ने कलेक्टर से की शिकायत*

बिलासपुर : कोनी आर आई सन्ध्या नामदेव पर कोनी के किसान राजकुमार यादव ने बिलासपुर कलेक्टर सारांश मित्तर से शिकायत की जिसमे कहा कि एक वर्ष पूर्व उन्होंने अपने पिता सीताराम यादव कोनी की भूमि जिसका खसरा न 374/2 का विधिवत सीमांकन करने आवेदन लगाया था जिसका आज तक सीमांकन नही हो पाया है जब किसान आर आई सन्ध्या नामदेव से इस बारे पूछा तो उससे पैसा मांगे गए और व्यवस्था नही होने पर सीमांकन नही होगा कहा गया ।
किसान पुत्र राजकुमार यादव आर आई के चक्कर काट कर थक गया जिसके बाद उसने बिलासपुर कलेक्टर से गुहार लगाई की उसके पिता की जमीन का विधिवत सीमांकन करा दिया जाए और पैसा मांगने वाली आर आई सन्ध्या नामदेव पर सख्त सख्त कार्यवाही की जाए ।
शिकायतकर्ता
राजकुमार यादव

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *