Breaking News

दुकान ख़ाली कराने को लेकर हुआ मारपीट, अभय बरुआ घयाल कार में भी किया गया तोड़फोड़, तारबाहर थाने में दोनों पक्षों की लगी भीड़, दोनों पक्षों का बयान ले रही पुलिस,

बिलासपुर: शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित एक दुकान पर कब्जे और दुकान खाली कराने को लेकर दो पक्षों के बीच हुई मारपीट में अभय बरुआ के घायल होने की जानकारी मिली है।। यहां मिली जानकारी के अनुसार दुकान का कब्जा खाली कराने को लेकर दोनों पक्षों में पहले जमकर वाद विवाद और बहस बाजी हुई जिसने देखते ही देखते मारपीट का रूप ले लिया।
और दोनों पक्षों में जमकर कर मारपीट हुई। जिसमें भू माफिया अभय बरुआ को सर में चोट लगने की जानकारी मिली है। साथ ही अभय बरुआ की गाड़ी में तोड़फोड़ भी किया गया है, पुलिस ने अभय बरुआ को मुलायजा के लिए जिला अस्पताल भेजा है। बस स्टैंड रोड स्थित रोड की इस दुकान में इस्माइल खान का कब्जा है। इस्माइल खान के मुताबिक उसने यह दुकान खरीद कर अपने नाम पर रजिस्ट्री करा लिया है। जबकि अभय बरुआ भी इस दुकान को खरीदने का दावा कर रहा है।‌
और इसी आधार पर अभय बरुवा आज दुकान खाली कराने पहुंच गया। इस पर वहां मौजूद इस्माइल के लड़के सोहराब ने यह कहते हुए दुकान खाली करने से मना कर दिया कि वह दुकान उनके द्वारा पहले ही खरीदी जा चुकी है। और देखते ही देखते वहां वाद विवाद शुरू हुआ और मारपीट का रूप ले लिया।
मारपीट व धक्का मुक्की में अभय को सिर पर चोट लगी है। उधर दूसरे पक्ष का कहना है कि अभय और उसके साथियों ने दुकान का सामान फेंकना शुरू कर, ऑफिस में तोड़फोड़ की। पुलिस दोनों पक्षों की शिकायत लेकर जांच कर रही है। जबकि मारपीट में घायल हुए अभय बरुआ को मुलाहिजा के लिए सिम्स भेजा गया है।

न्यायधानी बिलासपुर में इंसाफ के लिए भटक रही है बलात्कार पीड़िता,कोनी थाना के संवेदना केंद्र में लटका हुआ है ताला- पीड़िता का बयान लेने कोई भी नही है जिम्मेदार महिला अधिकारी…

न्यायधानी बिलासपुर में इंसाफ के लिए भटक रही है बलात्कार पीड़िता,कोनी थाना के संवेदना केंद्र में लटका हुआ है ताला- पीड़िता का बयान लेने कोई भी नही है जिम्मेदार महिला अधिकारी…

आरोपी लल्लू महराज पीड़िता को जान से मारने दे रहा धमकी- अपराध दर्ज करने के बजाय पुलिस पीड़िता को लगवा रही है थाने का चक्कर

बलात्कार जैसे गम्भीर मामले में कोनी पुलिस की लापरवाही पर उठने लगा हैं ,सवाल – आरोपी की दो टूक कोनी थाना मेरे जेब मे है ,मेरा पीना खाना होता है उनके साथ-तुम मेरा कुछ नही बिगाड़ सकती


बिलासपुर : छत्तीसगढ़ की न्यायधानी में रेप के आरोपियों के हौसले इतने बुलंद है,हफ़्तों थाने का चक्कर लगाने के बाद भी नही लिखी गई बालात्कार पीड़िता की एफआईआर, आरोपी लल्लू महराज पीड़िता को ट्रक से कुचलवा कर जान से मारने की दे रहा है धमकी । पुलिस हफ़्तों से ( पीड़ित) महिला को कटवा रहा है थाने का चक्कर कह रहे हैं मामले में हो रही है जाँच। जी हाँ यह मामला छत्तीसगढ़ के न्यायधानी बिलासपुर का है जहाँ पुलिस महकमे के आईजी एवं तेज तर्रार पुलिस कप्तान प्रशांत अग्रवाल के हांथो न्यायधानी की कमान है किंतु पुलिस के वर्दी पर दाग लगाने का कार्य विभाग के मातहत कर्मचारी ही जब करने लगें तो भला अधिकारी क्या कर सकतें है। आज से लगभग 2 वर्ष पहले बिलासपुर के सभी थानों में महिला सम्बन्धी अपराधों के नियंत्रण के लिए संवेदना केंद्रों की स्थापना की गई थी लगभग 1 केंद्र के पीछे 4-5 लाख रु खर्च भी किये गए थे। लेकिन आज उन संवेदना केंद्रों पर बड़े बड़े ताले लटके हुए हैं। ऐसा ही नजारा गुरुघासीदास सेंट्रल यूनिवर्सिटी के पास स्थित कोनी थाना का हैं। जहां महिला सम्बन्धी अपराध के विवेचना के लिए कोई जिम्मेदार महिला अधिकारी उपस्थित नही थी । 15 दिनों से युवती रेप के आरोपी लल्लू महराज के विरुद्ध अपराध दर्ज कराने के लिए लिखित आवेदन देने के बाद भी आरोपी को गिरफ्तार करने के बजाय उल्टे बयान एवं पूछताछ के नाम पर महिला पीड़िता को लगातार 7 बार थाने बुलवाया जा चुका है। 7 वीं बार भी जब महिला कोनी थाने पहुंची तो कोनी थाने में पदस्थ सब इंस्पेक्टर के द्वारा पहले तो महिला को घण्टो थाने में बैठाये रखा फिर आरोपी को भी बुलवाकर दोनो के बीच आपसी सुलह कराने की कोशिश करने लगा । लेकिन जब पीड़िता कार्यवाही की बात पर अड़ी रही तो पीड़िता का बयान लेकर उसका डॉक्टरी मुलाहिजा के लिए उसे हॉस्पिटल भेज के आरोपी के विरुद्ध अपराध दर्ज करने के बजाय उल्टे पीडिता को थाने से ही चलता कर दिया गया। जब पीड़िता ने जाँच अधिकारी को आरोपी के गिरफ्तारी के सम्बंध में पूछताछ किया तो पीड़िता को यह कहकर गुमराह कर दिया गया कि महिला जाँच अधिकारी से आपका बयान होने के बाद ही कोई मामला दर्ज होगा। जब उक्त जिम्मेदार पुलिस अधिकारी को यह स्प्ष्ट जानकारी है कि महिला सम्बन्धी अपराध खासकर बालात्कार जैसे गम्भीर मामले में पीड़िता का बयान किसी जिम्मेदार महिला अधिकारी या मजिस्ट्रेट द्वारा लिया जाता है। विगत 15 दिनों से उक्त पीड़िता को कोनी थाने का चक्कर लगवाया जा रहा है। जब 15 दिनों तक पीड़िता की अपराध कोनी थाने में दर्ज नही किया गया तब पीड़िता ने अपनी आपबीती मीडिया के सामने रखते हुए न्याय दिलाने की गुहार लगाई है। पीड़िता ने मीडिया को यह भी बताया कि आरोपी लल्लू महराज पीड़िता के घर मे आगजनी का प्रयास भी कर चुका है। साथ ही पीड़िता का वीडियो वायरल कर देने सहित अश्लील मैसेज भेज पीड़िता को जान से खत्म कर देने एवं बदनाम कर देने धमकाया जा रहा है । लेकिन महिला अपराधों के प्रति गम्भीर बिलासपुर के कोनी थाने में रेप पीड़िता के अपराध दर्ज नही किये जाने से अनेको सवाल खड़े हो रहे हैं। पीड़िता ने बताया कि उक्त घटना की जानकारी उसके द्वारा बिलासपुर जिले के पुलिस कप्तान को भी फोन के माध्यम से दिया गया है। जब न्यायधानी में ही मां,बेटियाँ महफूज नही है। बेटियों को न्याय के लिए भटकना पड़ रहा है । किंतु आरोपी लगातार दहशतगर्दी फैलाने में लगे हैं। मां ,बेटियों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठना लाजिमी है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *