Breaking News

दुकान ख़ाली कराने को लेकर हुआ मारपीट, अभय बरुआ घयाल कार में भी किया गया तोड़फोड़, तारबाहर थाने में दोनों पक्षों की लगी भीड़, दोनों पक्षों का बयान ले रही पुलिस,

बिलासपुर: शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित एक दुकान पर कब्जे और दुकान खाली कराने को लेकर दो पक्षों के बीच हुई मारपीट में अभय बरुआ के घायल होने की जानकारी मिली है।। यहां मिली जानकारी के अनुसार दुकान का कब्जा खाली कराने को लेकर दोनों पक्षों में पहले जमकर वाद विवाद और बहस बाजी हुई जिसने देखते ही देखते मारपीट का रूप ले लिया।
और दोनों पक्षों में जमकर कर मारपीट हुई। जिसमें भू माफिया अभय बरुआ को सर में चोट लगने की जानकारी मिली है। साथ ही अभय बरुआ की गाड़ी में तोड़फोड़ भी किया गया है, पुलिस ने अभय बरुआ को मुलायजा के लिए जिला अस्पताल भेजा है। बस स्टैंड रोड स्थित रोड की इस दुकान में इस्माइल खान का कब्जा है। इस्माइल खान के मुताबिक उसने यह दुकान खरीद कर अपने नाम पर रजिस्ट्री करा लिया है। जबकि अभय बरुआ भी इस दुकान को खरीदने का दावा कर रहा है।‌
और इसी आधार पर अभय बरुवा आज दुकान खाली कराने पहुंच गया। इस पर वहां मौजूद इस्माइल के लड़के सोहराब ने यह कहते हुए दुकान खाली करने से मना कर दिया कि वह दुकान उनके द्वारा पहले ही खरीदी जा चुकी है। और देखते ही देखते वहां वाद विवाद शुरू हुआ और मारपीट का रूप ले लिया।
मारपीट व धक्का मुक्की में अभय को सिर पर चोट लगी है। उधर दूसरे पक्ष का कहना है कि अभय और उसके साथियों ने दुकान का सामान फेंकना शुरू कर, ऑफिस में तोड़फोड़ की। पुलिस दोनों पक्षों की शिकायत लेकर जांच कर रही है। जबकि मारपीट में घायल हुए अभय बरुआ को मुलाहिजा के लिए सिम्स भेजा गया है।

ब्रेकिंग न्यूज़ – एटीआर के छपरवा में 4 दिनों से घायल बाघ को बचाने पीसीसीएफ (वन्यजीव) रेस्क्यू टीम रायपुर एवं कान्हा से लेकर पहुंचे , कारणों का अब तक पता नही
ब्रेकिंग न्यूज़ – एटीआर के छपरवा में 4 दिनों से घायल बाघ को बचाने पीसीसीएफ (वन्यजीव) रेस्क्यू टीम रायपुर एवं कान्हा से लेकर पहुंचे , कारणों का अब तक पता नही
छपरवा के एसडीओ प्रहलाद यादव और रेंजर ठाकुर के रेंज में मार्च माह में भी बायसन और चीतल का शिकार हुआ था, कहीं बाघ का तो नही?

ब्रेकिंग न्यूज़ – एटीआर के छपरवा में 4 दिनों से घायल बाघ को बचाने पीसीसीएफ (वन्यजीव) रेस्क्यू टीम रायपुर एवं कान्हा से लेकर पहुंचे , कारणों का अब तक पता नही
ब्रेकिंग न्यूज़ – एटीआर के छपरवा में 4 दिनों से घायल बाघ को बचाने पीसीसीएफ (वन्यजीव) रेस्क्यू टीम रायपुर एवं कान्हा से लेकर पहुंचे , कारणों का अब तक पता नही
छपरवा के एसडीओ प्रहलाद यादव और रेंजर ठाकुर के रेंज में मार्च माह में भी बायसन और चीतल का शिकार हुआ था, कहीं बाघ का तो नही?

बिलासपुर : सूत्रों के हवाले से एक गम्भीर खबर वायरलेस न्यूज़ के हाथ लगी है कि अचानकमार टाइगर रिजर्व में पिछले चार दिनों से एक टाइगर छपरवा रेंज के एक नाले के पास बुरी तरह अवस्था में बैठा हुआ है , मौके की गम्भीरता को समझ बिलासपुर से लेकर राजधानी वन मुख्यालय तक आग की तरह पहुंच चुकी है लेकिन बाघ के घायल की बात को अधिकारी पृरी तरह दबा कर रखे हैं। जिसको लेकर आनन फानन में पूरा वन अमला चुपके से आज 3 बजे एटीआर पहंच रेस्क्यू में जुटे हुए हैं। देर शाम तक अधिकारियों की टीम वापस नही पहुंची है।हालांकि हमने डीएफओ शर्मा को भी मोबाइल से सम्पर्क करते रहे घण्टी भी बजती रही मगर उन्होंने फोन रिसीव भी नही किए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार एटीआर में बाघ के घायल होने की खबर विलम्ब से वन मुख्यालय पहुंचा है जबकि बाघ पिछले चार दिनों से नाले का पास बुरी तरह घायल अवस्था मे एक ही जगह पर बैठा है । इस बात की जानकारी भी छपरवा में पदस्थ रेंज अफसर हितेश ठाकुर को भी विलम्ब से मिला छपरवा के निवासियों ने खबर दी तब उन्हें पता चला तब तक 3 दिन ब्यतीत हो चुका था।प्रथम दृष्टया में रेंज अफसर और एसडीओ प्रह्लाद यादव को दोषी माना जा सकता है ? दोनो अधिकारी अपने मुख्यालय में कई दिनों से नदारद बताए जा रहे थे और तो एसडीओ प्रह्लाद यादव अपने प्रमोशन की गणित में वन मंत्री के पास पिछले 3 दिनों से रायपुर में गुनताड़ में लगे है ज्ञात हो कि गत मार्च महीनों में इसी प्रहलाद यादव के रेंज में बायसन ओर चीतल का भी शिकार हुआ था ?
एटीआर के डीएफओ श्री शर्मा को जैसे ही बाघ के घायल होने की जानकारी मिली तत्काल उन्होंने अपने उच्चाधिकारियों को अवगत कराई। रायपुर में वन मुख्यालय में बाघ के घायल होने की सूचना से पूरा तंत्र हिल गया ! तब आनन फानन में
प्रमुख मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) श्री नरसिम्हा राव ने कान्हा किसली नेशनल पार्क के डॉक्टरों की टीम, और रायपुर जंगल सफारी के डॉक्टर श्री वर्मा , उदंती टाइगर रिजर्व के सीसीएफ राजेश पांडेय, के साथ साजो सामान ट्रंकलाइजर गन , पिंजड़ा, स्ट्रेचर लेकर आज 3 बजे अचानकमार टाइगर रिजर्व पहुंच रेस्क्यू के काम में लगे हुए है। अभी तक यह जानकारी नही मिल पाई है कि बाघ आखिर में घायल कैसे हुआ है, बाघ कहीं वृद्धवस्था में तो नही पहुंच गया, अथवा कहीं कोई बाघ का शिकार करने का प्रयास तो नही किया ,या दो बाघ का आपस में झगड़ा तो नही हुआ ? ये सब शंकाएं तभी दूर हो पाएगी जब अधिकारियों से हमारी बात हो सकेगी ? हालांकि न्यूज़ बनाने तक एटीआर से टीम वापस नही लौटी है। लेकिन मामला बहुत ही गम्भीर बना है!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *