Breaking News

दुकान ख़ाली कराने को लेकर हुआ मारपीट, अभय बरुआ घयाल कार में भी किया गया तोड़फोड़, तारबाहर थाने में दोनों पक्षों की लगी भीड़, दोनों पक्षों का बयान ले रही पुलिस,

बिलासपुर: शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित एक दुकान पर कब्जे और दुकान खाली कराने को लेकर दो पक्षों के बीच हुई मारपीट में अभय बरुआ के घायल होने की जानकारी मिली है।। यहां मिली जानकारी के अनुसार दुकान का कब्जा खाली कराने को लेकर दोनों पक्षों में पहले जमकर वाद विवाद और बहस बाजी हुई जिसने देखते ही देखते मारपीट का रूप ले लिया।
और दोनों पक्षों में जमकर कर मारपीट हुई। जिसमें भू माफिया अभय बरुआ को सर में चोट लगने की जानकारी मिली है। साथ ही अभय बरुआ की गाड़ी में तोड़फोड़ भी किया गया है, पुलिस ने अभय बरुआ को मुलायजा के लिए जिला अस्पताल भेजा है। बस स्टैंड रोड स्थित रोड की इस दुकान में इस्माइल खान का कब्जा है। इस्माइल खान के मुताबिक उसने यह दुकान खरीद कर अपने नाम पर रजिस्ट्री करा लिया है। जबकि अभय बरुआ भी इस दुकान को खरीदने का दावा कर रहा है।‌
और इसी आधार पर अभय बरुवा आज दुकान खाली कराने पहुंच गया। इस पर वहां मौजूद इस्माइल के लड़के सोहराब ने यह कहते हुए दुकान खाली करने से मना कर दिया कि वह दुकान उनके द्वारा पहले ही खरीदी जा चुकी है। और देखते ही देखते वहां वाद विवाद शुरू हुआ और मारपीट का रूप ले लिया।
मारपीट व धक्का मुक्की में अभय को सिर पर चोट लगी है। उधर दूसरे पक्ष का कहना है कि अभय और उसके साथियों ने दुकान का सामान फेंकना शुरू कर, ऑफिस में तोड़फोड़ की। पुलिस दोनों पक्षों की शिकायत लेकर जांच कर रही है। जबकि मारपीट में घायल हुए अभय बरुआ को मुलाहिजा के लिए सिम्स भेजा गया है।

छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस की चपेट में आने से डॉक्टर की मौत,राज्य में ब्लैक फंगस की चपेट में अब तक 212 लोग जबकि 10 की हुई मौत

छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस की चपेट में आने से डॉक्टर की मौत,राज्य में ब्लैक फंगस की चपेट में अब तक 212 लोग जबकि 10 की हुई मौत



रायपुर : पुलिस परिवार कल्याण चिकित्सालय बिलासपुर में चिकित्सा अधिकारी के पद पर पदस्थ डॉ. बीपी सोनकर की ब्लैक फंगस से मौत हो गई। उनका इलाज राजधानी के डॉक्टर भीमराव आंबेडकर मेमोरियल अस्पताल में चल रहा था।

आइसीयू यूनिट के इंचार्ज व क्रिटिकल के यर विशेषज्ञ डॉ. ओपी सुंदरानी ने बताया कि मरीज कोरोना पाजिटिव होने के बाद स्वास्थ्य हो गए थे। ब्लैक फंगस के लक्षण आने दिखने पर उन्हें सप्ताह भर पहले आंबेडकर अस्पताल में लाया गया था। आइसीयू में भर्ती होने के बाद इनकी सर्जरी भी हुई। धीरे-धीरे रिकवर हो रहे थे, लेकि न रात में अचानक तबियत बिगड़ी और बेहोश हो गए। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

इधर, राज्य कोरोना नियंत्रण अभियान के नोडल अधिकारी डॉक्टर सुभाष मिश्रा ने बताया कि राज्य में अब तक 212 ब्लैक फंगस के मामले सामने आए हैं, जबकि 10 लोगों की मौत हो चुकी है। इसमें अकेले एम्स में अब तक 149 केस भर्ती हुए हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *