Breaking News

दुकान ख़ाली कराने को लेकर हुआ मारपीट, अभय बरुआ घयाल कार में भी किया गया तोड़फोड़, तारबाहर थाने में दोनों पक्षों की लगी भीड़, दोनों पक्षों का बयान ले रही पुलिस,

बिलासपुर: शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित एक दुकान पर कब्जे और दुकान खाली कराने को लेकर दो पक्षों के बीच हुई मारपीट में अभय बरुआ के घायल होने की जानकारी मिली है।। यहां मिली जानकारी के अनुसार दुकान का कब्जा खाली कराने को लेकर दोनों पक्षों में पहले जमकर वाद विवाद और बहस बाजी हुई जिसने देखते ही देखते मारपीट का रूप ले लिया।
और दोनों पक्षों में जमकर कर मारपीट हुई। जिसमें भू माफिया अभय बरुआ को सर में चोट लगने की जानकारी मिली है। साथ ही अभय बरुआ की गाड़ी में तोड़फोड़ भी किया गया है, पुलिस ने अभय बरुआ को मुलायजा के लिए जिला अस्पताल भेजा है। बस स्टैंड रोड स्थित रोड की इस दुकान में इस्माइल खान का कब्जा है। इस्माइल खान के मुताबिक उसने यह दुकान खरीद कर अपने नाम पर रजिस्ट्री करा लिया है। जबकि अभय बरुआ भी इस दुकान को खरीदने का दावा कर रहा है।‌
और इसी आधार पर अभय बरुवा आज दुकान खाली कराने पहुंच गया। इस पर वहां मौजूद इस्माइल के लड़के सोहराब ने यह कहते हुए दुकान खाली करने से मना कर दिया कि वह दुकान उनके द्वारा पहले ही खरीदी जा चुकी है। और देखते ही देखते वहां वाद विवाद शुरू हुआ और मारपीट का रूप ले लिया।
मारपीट व धक्का मुक्की में अभय को सिर पर चोट लगी है। उधर दूसरे पक्ष का कहना है कि अभय और उसके साथियों ने दुकान का सामान फेंकना शुरू कर, ऑफिस में तोड़फोड़ की। पुलिस दोनों पक्षों की शिकायत लेकर जांच कर रही है। जबकि मारपीट में घायल हुए अभय बरुआ को मुलाहिजा के लिए सिम्स भेजा गया है।

सूत्रों की खबर, अशोक गहलोत कैंप के कुछ विधायक सचिन पायलट के संपर्क में

सूत्रों की खबर, अशोक गहलोत कैंप के कुछ विधायक सचिन पायलट के संपर्क में

अशोक गहलोत कैंप के कुछ विधायक सचिन पायलट के संपर्क मेंराजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर एक बार फिर संकट के बादल मंडरा सकते हैं।
दिल्ली और पड़ौसी राज्यों की सीमा पर चौकसी बढ़ाई हो सकते हैं बॉर्डर सील शुक्रवार को ताकत दिखाएगा पायलट खेमा पायलट खेमा कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से अगले माह मुलाकात का समय मांगेगा।

जयपुर, : राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर एक बार फिर संकट के बादल मंडरा सकते हैं। पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकोें ने पार्टी आलाकमान को अल्टीमेटम दिया है कि या तो जुलाई तक मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियां करने का वादा पूरा करो, नहीं तो वे आगे निर्णय लेने में स्वतंत्र हैं। पिछले दो दिन में एक दर्जन विधायकों ने पायलट के घर अलग-अलग बैठक कर एक बार फिर कांग्रेस आलाकमान तक अपनी बात पहुंचाने की रणनीति बनाई।


पायलट खेमा कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से अगले माह मुलाकात का समय मांगेगा। विधायकों के साथ ही जिला प्रमुख, प्रधान,स्थानीय निकाय के प्रतिनिधियों और जिला स्तर के कांग्रेसियों से भी पायलट की बात होने की जानकारी है। दोे दिन बाद स्व.राजेश पायलट की पुण्यतिथि पर हर साल की तरह शुक्रवार को होने वाली प्रार्थना सभा में अपनी ताकत दिखाने की रणनीति भी पायलट कैंप ने बनाई है।

यह भी पढ़ें
Rajasthan Political Crisis सचिन पायलट खेमा मैदान में, विधायक ने कहा- वोट हमारे और मलाई दूसरे खा रहे हैं

उधर इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिली जानकारी के बाद सरकार ने दिल्ली, हरियाणा, उत्तरप्रदेश और गुजरात से सटे बॉर्डर पर चौकसी बढ़ा दी है। कभी भी बॉर्डर सील हो सकता है। इंटेलिजेंस ब्यूरो ने सरकार को इनपुट दिया कि पायलट समर्थक विधायक दिल्ली अथवा पड़ौसी राज्यों में जाकर एक बार फिर बाड़ेबंदी कर सकते हैं। विधायकों के साथ स्थानीय निकाय व पंचायत प्रतिनिधियों के भी जाने की सूचना है । इंटेलिजेंस सूचना है कि इस बार गहलोत कैंप के कुछ विधायक भी पायलट के संपर्क में है । मौका मिलते ही वे ही पाला बदल सकते हैं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *