Breaking News

दुकान ख़ाली कराने को लेकर हुआ मारपीट, अभय बरुआ घयाल कार में भी किया गया तोड़फोड़, तारबाहर थाने में दोनों पक्षों की लगी भीड़, दोनों पक्षों का बयान ले रही पुलिस,

बिलासपुर: शहर के पुराना बस स्टैंड स्थित एक दुकान पर कब्जे और दुकान खाली कराने को लेकर दो पक्षों के बीच हुई मारपीट में अभय बरुआ के घायल होने की जानकारी मिली है।। यहां मिली जानकारी के अनुसार दुकान का कब्जा खाली कराने को लेकर दोनों पक्षों में पहले जमकर वाद विवाद और बहस बाजी हुई जिसने देखते ही देखते मारपीट का रूप ले लिया।
और दोनों पक्षों में जमकर कर मारपीट हुई। जिसमें भू माफिया अभय बरुआ को सर में चोट लगने की जानकारी मिली है। साथ ही अभय बरुआ की गाड़ी में तोड़फोड़ भी किया गया है, पुलिस ने अभय बरुआ को मुलायजा के लिए जिला अस्पताल भेजा है। बस स्टैंड रोड स्थित रोड की इस दुकान में इस्माइल खान का कब्जा है। इस्माइल खान के मुताबिक उसने यह दुकान खरीद कर अपने नाम पर रजिस्ट्री करा लिया है। जबकि अभय बरुआ भी इस दुकान को खरीदने का दावा कर रहा है।‌
और इसी आधार पर अभय बरुवा आज दुकान खाली कराने पहुंच गया। इस पर वहां मौजूद इस्माइल के लड़के सोहराब ने यह कहते हुए दुकान खाली करने से मना कर दिया कि वह दुकान उनके द्वारा पहले ही खरीदी जा चुकी है। और देखते ही देखते वहां वाद विवाद शुरू हुआ और मारपीट का रूप ले लिया।
मारपीट व धक्का मुक्की में अभय को सिर पर चोट लगी है। उधर दूसरे पक्ष का कहना है कि अभय और उसके साथियों ने दुकान का सामान फेंकना शुरू कर, ऑफिस में तोड़फोड़ की। पुलिस दोनों पक्षों की शिकायत लेकर जांच कर रही है। जबकि मारपीट में घायल हुए अभय बरुआ को मुलाहिजा के लिए सिम्स भेजा गया है।

पत्नी ने जेल में बंद पति के साथ शारीरिक संबंध बनाने की मांगी इजाजत…

राष्ट्रीय जगत विजन

हरियाणा/भिलाई : पत्नी ने जेल में बंद पति के साथ शारीरिक संबंध बनाने की मांगी इजाजत।

हाईकोर्ट में एक केस दायर हुआ है जिसमें गुरुग्राम की एक महिला ने जेल में बंद पति के साथ शरीरिक संबंध बनाने की इजाजत मांगी है। महिला ने तर्क दिया है कि सलाखों के पीछे रहने वाले व्यक्ति को वंशवृद्धि से नहीं रोका जा सकता। हाईकोर्ट ने गृह विभाग हरियाणा से जवाब मांगा है।

याचिकाकर्ता पत्नी ने कहा कि उनके पति को गुरुग्राम कोर्ट ने हत्या और अन्य अपराधों का दोषी ठहराया है। पति 2018 से वह भोंडसी जिला जेल में बंद है। पत्नी ने अपनी याचिका में कहा कि उन्हें संतान की चाहत है और वह अपने पति से संबंध बनाना चाहती हैं।

बताया कि हाई कोर्ट ने जसवीर सिंह बनाम पंजाब राज्य के एक केस का निपटारा करते हुए सरकार को कैदियों को वंशवृद्वि के लिए पत्नी से संबंध बनाने पर सरकार को नीति बनाने को कहा था।

कोर्ट ने हरियाणा के अडिशनल एडवोकेट जरनल से पूछा कि क्या राज्य सरकार ने जसवीर सिंह केस में हाई कोर्ट के आदेश पर इस तरह की कोई नीति बनाई है। याचिकाकर्ता महिला के वकील ने कहा कि मानवाधिकारों के तहत महिला को वंशवृद्वि का अधिकार है। याची की तरफ से दलील दी गई कि क्या संविधान के आर्टिकल 21 के तहत उन्हें जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *