Breaking News

पत्रकारों के सवाल पर बिफरे बृहस्पति सिंह ने मीडिया रिपोर्टर को कहा सरगुजा के अंगूठा छाप आदिवासीयों की तरह प्रश्न पूछना उचित नहीं है। लगता है, आपका दिमागी हालत ठीक नहीं है ।पहले अपना दिमांग को ठीक करा लीजिए फिर मेरे से सवाल पूछिए

पत्रकारों के सवाल पर बिफरे बृहस्पति सिंह ने मीडिया रिपोर्टर को कहा सरगुजा के अंगूठा छाप आदिवासीयों की तरह प्रश्न पूछना उचित नहीं है। लगता है, आपका दिमागी हालत ठीक नहीं है ।पहले अपना दिमांग को ठीक करा लीजिए फिर मेरे से सवाल पूछि

सरगुजा : अंबिकापुर विधानसभा सत्र के बाद गृह ग्राम क्षेत्र बलरामपुर, रामानुजगंज जा रहे हमेशा विविदो से नाता रखने वाले विधायक बृहस्पति सिंह एक पत्रकार पर ही गर्म हो गए विधायक बृहस्पति सिंह इस कदर बिफर पढ़े कि उन्होंने पत्रकार की तुलना सरगुजा के आदिवासियों से करते हुए सरगुजा के आदिवासियों को अंगूठा छाप बता दिया । वह यही पर नहीं रूके उन्होंने पत्रकार को यह भी सलाह दे डाली कि आपका दिमागी हालत ठीक नहीं है पहले ठीक करा लीजिए उसके बाद मुझसे सवाल पूछिएगा । दर्शल स्थानीय सर्किट हाउस में मीडिया कर्मियों ने सवाल किया था। कि आपने जो माफी सदन के अंदर सदन से और मंत्री टी एस सिंह देव मांगा है ,

का सवाल अधूरा ही रहा

और बृहस्पति सिंह जोरदार भड़क गए और उन्होंने सरगुजा के आदिवासियों को अंगूठा छाप करार देते हुए

मीडिया कर्मी को ही नसीहत दे डाली आप लोग पत्रकार हैं बुद्धिजीवी हैं पढ़े लिखे हैं और हमारे सरगुजा के अंगूठा छाप आदिवासियों की तरह प्रश्न क्यों पूछ रहे हो यह उचित नहीं है ।

जो भी हम विधायकों के साथ घटना घटित हुई है । विधानसभा में जो भी बात हुई है उसका वीडियो मंगा कर देख ले किसने क्या कहा है। मीडिया कर्मी ने फिर सवाल किया मैं तो यह पूछ रहा हूं कि थाने में दर्ज केस आप वापस लेंगे क्या उतने में

विधायक बृहस्पति सिंह का गुस्सा शांत नहीं हुआ और उन्होंने पत्रकार को पत्रकारिता सिखाते हुए यह कह दिया कि दिमागी हालत ठीक नहीं है विधायक बृहस्पति सिंह ने आगे कहा आप पत्रकार बनने के लायक नहीं है । पहले सवाल पूछने का स्तर सोचिए किसी ने आपको सिखा कर तो नहीं भेजा है ।तो आप अपना पहले दिमागी हालत ठीक करवा लीजिए। फिर मेरे से सवाल आ कर पूछ लिजिगा इस तरह सवालो से तिलमिलाए बृहस्पति सिंह ने खिसयानी बिल्ली खंबा नोचे , कहावत की तरह हरकत करते रहे थे । पत्रकार के साथ उनका यह व्यवहार बहुत ही निंदनीय रहा ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *