सोम. सितम्बर 23rd, 2019

बहुत जल्द मंतूराम को बाहर का रास्ता दिखा सकती है भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने दिऐ संकेत

बहुत जल्द मंतूराम को बाहर का रास्ता दिखा सकती है भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने दिऐ संकेत

राष्ट्रीय जगत विजन 10 सितंबर 2019

रायपुर : छत्तीसगढ़ के सियासी गलियारे में एक बार फिर से विस्फोट करने वाले मंतूराम पवार को बीजेपी से बाहर का रास्ता दिखाने की तैयारी चल रही है, बीजेपी संगठन मंतूराम पवार को पार्टी से बाहर निकालने का फैसला जल्द ले सकती है | एक दिन पहले पूर्व सीएम और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने इस बात का संकेत भी दिए हैं. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार का कृत्य मंतूराम ने किया है, उससे उसका बीजेपी में रहने का सवाल ही खत्म हो जाता है, प्रदेश अध्यक्ष इस पर जल्द निर्णय लेंगे |

अंतागढ़ टेपकांड से दुरी बनाकर चलने वाले 15 सालों तक छत्तीसगढ़ के मुखिया रहने वाले डॉ. रमन सिंह का नाम अंततः अंतागढ़ टेपकांड मामले में सामने आ ही आया है, मंतूराम पवार ने कोर्ट को दिए लिखित बयान में पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह पर सीधे आरोप लगाए हैं, मंतूराम ने कहा कि उन्हें अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी बनाए जाने के बाद बड़े नेताओं ने संपर्क किया, इसमें पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह, अजीत जोगी, अमित जोगी के नाम भी शामिल हैं | साढ़े 7 करोड़ रुपये का लालच देकर उनकी नाम वापसी कराई गई | इस मामले में पूरा लेनदेन तत्कालीन मंत्री राजेश मूणत के घर में हुई थी

  • छत्तीसगढ़ की राजनीति में साल 2014 के बाद एक बार फिर से भूचाल लाने वाले मंतूराम पवार पर बीजेपी कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है. मंतूराम पवार को बीजेपी पार्टी से जल्द ही बाहर निकाल सकती है. पूर्व सीएम और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने ये संकेत दिए हैं. डॉ. रमन सिंह ने कहा कि जिस प्रकार का कृत्य मंतूराम ने किया है, उससे उसका बीजेपी में रहने का सवाल ही खत्म हो जाता है. प्रदेश अध्यक्ष इस पर जल्द निर्णय लेंगे.
  • 15 सालों तक छत्तीसगढ़ में के मुखिया रहने वाले डॉ. रमन सिंह अंतागढ़ टेपकांड वाले मामले में अब सबसे ज्यादा निशाने पर हैं. मंतूराम पवार ने कोर्ट को दिए लिखित बयान में पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह पर सीधे आरोप लगाए हैं. मंतूराम ने कहा कि उन्हें अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी बनाए जाने के बाद बड़े नेताओं ने संपर्क किया. इसमें पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह, अजीत जोगी, अमित जोगी के नाम भी शामिल हैं. साढ़े 7 करोड़ रुपये का लालच देकर उनकी नाम वापसी कराई गई.
    मिला दिव्य ज्ञान
  • मंतूराम के आरोप पर डॉ. रमन सिंह का कहना है कि कि मंतूराम पवार को दिव्य ज्ञान दिया गया. उसके बाद वो उनपर झूठा आरोप लगा रहे हैं. इसी मामले में ईडी से शिकायत पर रमन सिंह ने कहा कि जब मंतूराम खुद कह रहा है कि उसे एक रुपये भी नहीं मिला तो शिकायत कैसी? केस जो बनाया है उसकी भूमिका को ही समाप्त करने का काम कर रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि मंशा साफ नजर आ रही है कि दंतेवाड़ा चुनाव में कांग्रेस के पास कोई मुद्दा नहीं है. उन्हें लगता है कि डॉ. रमन सिंह को निशाना बनाया जाए, जिससे आने वाले दिनों में कोई दिक्कत ही ना हो.

2014 में भी मचा था भूचाल

  • बता दें कि साल 2014 में कांकेर जिले के अंतागढ़ उपचुनाव में मंतूराम पवार ने सूबे की राजनीति में भूचाल मचा दिया था. कांग्रेस प्रत्याशी मंतूराम ने ऐसे वक्त अपना नाम वापस ले लिया, जब कांग्रेस कोई दूसरा प्रत्याशी खड़ा नहीं कर सकती थी. इससे एक तरह से बीजेपी को वॉकओवर मिल गया था. चुनाव के कुछ महीने बाद एक आडियो वायरल हुआ, जिसमें पैसें की लेनदेन के कारण मंतूराम के नाम वापसी का जिक्र था. इसी मामले में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद नए सिरे से जांच की जा रही है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.